'यहां 40 विधायक मौजूद हैं...', एकनाथ शिंदे के इस बयान के पीछे क्या है रणनीति?

India | 4 days ago | 22-06-2022 | 09:07 am

'यहां 40 विधायक मौजूद हैं...', एकनाथ शिंदे के इस बयान के पीछे क्या है रणनीति?

महाराष्ट्र की राजनीति में चल रही उठापटक पर कई सियासी पंडितों की नजर है. नेताओं के मुखारबिंदुओं से निकलने वाले हर एक बयान का विश्लेषण किया जा रहा है. ऐसे में जब एकनाथ शिंदे तमाम आशंकाओं के बीच पहली मीडिया से रुबरु हुए तो उनकेद्वारा कहे गए शब्दों का पोस्टमार्टम भी किया जा रहा है. सूरत और गुवाहाटी एयरपोर्ट पर एकनाथ शिंदे ने दावा किया कि उनके साथ 40 विधायक हैं. महाराष्ट्र की राजनीति पर पैनी नजर रखने वाले जानकार मानते हैं कि इस बयान के साथ एकनाथ शिंदे की मंशा अपने साथ शिवसेना के और विधायकों को आकर्षित करने की है जोकि मुंबई में हैं.Also Read - Top10 News Today: अफगानिस्तान में भूकंप से 255 लोगों की मौत, महाराष्ट्र में सियासी तूफान जारी, हरियाणा नगर निकाय चुनाव का रिजल्ट...ऐसा करके वह दो तिहाई का आंकड़ा पार करना चाहते हैं, क्योंकि तभी सरकार बनाने का टारगेट पूरा हो सकता है.सूत्रों का दावा है कि इस बात की भी संभावना है कि शिंदे इस लक्ष्य को हासिल करने में कामयाब भी हो सकते हैं. उद्धव का समर्थन करने वाले बाकी विधायकों को भी मुंबई के एक होटल में रखा गया है. बताते चलें कि सूरत में डेरा डाले शिवसेना के बागी विधायकों को आधी रात को सूरत से गुवाहटी के लिए शिफ्ट कर दिया गया. इन्हें गुवाहाटी के रैडिसन ब्लू होटल पहुंचा गया है. Also Read - असम का सबसे बड़ा शहर है गुवाहाटी, महाराष्ट्र के पॉलिटिकल क्राइसिस के कारण है चर्चा में, जानिये यहां के पर्यटन स्थलगुवाहाटी पहुंचने के बाद शिंदे ने कहा कि यहां 40 विधायक मौजूद है. उन्होंने कहा कि हमने बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना को नहीं छोड़ा है और नहीं छोड़ेंगे. उन्होंने कहा कि हम बालासाहेब के हिंदुत्व का अनुसरण कर रहे हैं और इसे आगे भी ले जाएंगे. Also Read - Maharashtra Political Crisis: क्या इस संकट से निकल पाएगी अघाड़ी सरकार, ये आंकड़े तो उद्धव ठाकरे की नींद उड़ाने वाले हैंइस सियासी संकट की शुरुआत मंगलवार को हुई जब शिवसेना की तरफ से कहा गया कि पार्टी से नाराज चल रहे एकनाथ शिंदे का मोबाइल सोमवार रात से ही नॉट रिचेबल है और उनके साथ कई विधायक भी पार्टी की पहुंच से दूर है. इसके बाद शुरू हुआ सियासी चहलकदमी का सिलसिला अभी तक जारी है.सूत्रों के मुताबिक, आज एकनाथ शिंदे राज्यपाल को एक लेटर फैक्स कर सकते हैं. इस पत्र के जरिए वे तकरीबन 40 विधायकों का महाविकास आघाड़ी सरकार को समर्थन ना होने का दावा पेश कर सकते हैं. इस चिट्ठी के आधार पर राज्यपाल बाद में फ्लोर टेस्ट पर फैसला लेंगे. जहां उद्धव सरकार को अपना बहुमत साबित करना पड़ सकता है.

Google Follow Image