'मैंने अपने क्षेत्र में इतना काम किया है कि मुझे चुनाव चिन्ह की जरूरत नहीं', पुणे में बोले CM एकनाथ शिंदे

News18 | 1 week ago | 06-08-2022 | 07:05 am

'मैंने अपने क्षेत्र में इतना काम किया है कि मुझे चुनाव चिन्ह की जरूरत नहीं', पुणे में बोले CM एकनाथ शिंदे

मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने मंगलवार को कहा कि लोगों द्वारा चुने जाने के लिए उन्हें चुनाव चिन्ह की आवश्यकता नहीं है. वहीं भाजपा से गठबंधन करने पर सीएम शिंदे ने कहा कि उन्होंने एक बार फिर शिवसेना का असली गठबंधन बनाया है. रैली में लोगों को संबोधित करते हुए सीएम एकनाथ शिंदे ने कहा, ‘किसने धोखा दिया? हमने या किसी और ने? हमने एक बार फिर शिवसेना का व्यवहारिक गठबंधन बनाया और यह सरकार लोगों की सरकार है.’ इसके अलावा उन्होंने कहा कि मैंने अपने निर्वाचन क्षेत्र में बहुत काम किया है. इतना कि मुझे लोगों द्वारा चुने जाने के लिए चुनाव चिन्ह की आवश्यकता नहीं है. सीएम शिंदे पुणे के दौरे पर थे. इस दौरान उन्होंने पुणे संभाग के अंतर्गत आने वाले पांच जिलों में विभिन्न विकास संबंधी परियोजनाओं की स्थिति की भी समीक्षा की.बता दें कि एकनाथ शिंदे के विद्रोह के चलते शिवसेना की गठबंधन वाली सरकार गिर गई. इस दौरान उद्धव ठाकरे के पक्ष से एकनाथ शिंदे पर पार्टी को धोखा देने का आरोप लगाया गया. इसी कड़ी में पुणे के सासवड में एक रैली में बोलते हुए, एकनाथ शिंदे ने एमवीए गठबंधन की सरकार को लेकर कहा, ‘सरकार सत्ता में आई और हमारी पार्टी के प्रमुख मुख्यमंत्री बने. हम सभी काम करने के लिए मैदान में उतर गए. इस बीच, लोग मुझसे मिलने आते थे क्योंकि कुछ लोगों के पास उनसे मिलने का समय नहीं था. एमवीए सरकार में हमारे लोगों को जो भुगतना पड़ रहा था वह असहनीय था.’ वहीं शिवसेना से अलग होने पर कहा कि हमने यह फैसला इसलिए लिया क्योंकि, आगामी चुनावों में, शिवसेना के पास केवल उतने ही विधान सभा (विधायक) होते जितने की उंगलियों पर गिने जा सकते हैं.’सीएम एकनाथ शिंदे ने कहा, ‘शिवसेना को समाप्त करने के प्रयास जारी थे, लोगों को जेल में डाला जा रहा था और वे उन्हें खुद को बचाने के लिए अपनी पार्टियों में शामिल होने के लिए कहा जा रहा था.’ एकनाथ शिंदे ने अपने समर्थकों और नेताओं से मिलने का समय नहीं देने के लिए उद्धव ठाकरे की आलोचना की. एकनाथ शिंदे ने पूछा, ‘बालासाहेब के साथ काम करने वाले वरिष्ठ नेताओं को भी वर्षा बंगले से वापस जाना पड़ा. ऐसी शक्ति का क्या उपयोग है?’ उन्होंने कहा, ‘मैं मंत्री था, और उदय सामंत भी थे. लेकिन हमने सरकार छोड़ दी. मैंने अपने निर्वाचन क्षेत्र में बहुत काम किया है. इतना कि मुझे लोगों द्वारा चुने जाने के लिए चुनाव चिन्ह की आवश्यकता नहीं है.’ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |Tags: Eknath Shinde, Maharashtra

Google Follow Image