मुबंई में GRP का अमानवीय चेहरा! छेड़छाड़ की FIR के लिए महिला वकील को 3-4 बार घटना दोहराने को किया मजबूर

Jagran | 2 weeks ago | 23-09-2022 | 12:48 pm

मुबंई में GRP का अमानवीय चेहरा! छेड़छाड़ की FIR के लिए महिला वकील को 3-4 बार घटना दोहराने को किया मजबूर

मुंबई, मिड डे। मायानगरी मुंबई में रेलवे पुलिस (Government Railway Police ) का अमानवीय चेहरा सामने आया है। यहां 25 साल की एक महिला वकील का आरोप है कि मुंबई लोकल ट्रेन (Mumbai Local Train) में एक व्यक्ति द्वारा छेड़खानी के संबंध में जब वह पुलिस में शिकायत करने गई, तो उनके साथअसंवेदनशील व्यवहार किया गया। पीड़िता का आरोप है कि रेलवे पुलिस ने पहले तो तीन से चार घंटे तक इंतजार करवाया और फिर रिपोर्ट दर्ज करने के दौरान कई बार छेड़छाड़ की घटना दोहराने को मजबूर किया।सोशल मीडिया पर साझा किया अनुभवपीड़ित महिला वकील ने सोशल मीडिया पर अपनी आपबीती सुनाई है। पीड़िता ने अपनी पोस्ट में बताया कि बुधवार सुबह को वह सेंट्रल रेलवे की हार्बर शाखा पर अपना काम खत्म करके कॉटन ग्रीन से जोगेश्वरी जा रही थी। अंधेरी स्टेशन पर एक 40 वर्षीय अधेड़ व्यक्ति फर्स्ट क्लास कंपार्टमेंट में घुस आया। जोगेश्वरी स्टेशन से पहले व्यक्ति ने महिला वकील के साथ गलत व्यवहार किया। छेड़खानी के बाद वह ट्रेन से कूद कर फरार हो गया।Dussehra Rally: शिवाजी पार्क में दशहरा रैली नहीं कर पाएंगे उद्धव और शिंदे गुट, हाई कोर्ट में कल फिर होगी सुनवाई यह भी पढ़ें यह भी पढ़ें-महाराष्ट्र के ठाणे में बड़ा हादसा, इमारत का एक हिस्सा गिरने से दो महिला समेत चार लोगों की मौत; रेस्क्यू जारीपुलिस ने पीड़िता से पूछा छेड़खानी का मतलबपीड़िता ने बताया कि डरी सहमी हालत में वह अंधेरी रेलवे पुलिस स्टेशन गई। वहां पर थाने में मौजूद पुलिस कर्मी से बात की और महिला कांस्टेबल को बुलाने को कहा। पीड़िता ने अपने पोस्ट में लिखा कि सबसे पहले पुलिस कर्मी ने मुझसे पूछा कि छेड़खानी (Molestation) क्या होती है। इसके बाद एक महिला पुलिस कर्मी ने पूछा कि छेड़छाड़ करने वाला व्यक्ति मेरा बायफ्रेंड तो नहीं था।पुलिसकर्मियों में से एक ने पूछा कि उसने जवाबी कार्रवाई में व्यक्ति को क्यों नहीं मारा।ATS Raid: महाराष्ट्र एटीएस ने पीएफआइ के 20 कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तार यह भी पढ़ें कई बार खौफनाक घटना दोहराने के बादज दर्ज हुई रिपोर्टमहिला वकील ने अपने लंबे पोस्ट में दावा किया कि अजीबोगरीब सवालों के बीच रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए उसे तीन-चार बार घटना दोहरानी पड़ी। तीन घंटे इंतजार के बाद अंधेरी रेलवे पुलिस स्टेशन में उसका बयान दर्ज किया गया।इसके बाद पुलिस ने महिला वकील को कहा कि जिस क्षेत्र में उसके साथ छेड़खानी हुई वह बोरीवली रेलवे पुलिस के अधिकार क्षेत्र में है और आगे की जांच वहीं होगी। शाम को महिला वकील को बोरीवली रेलवे पुलिस स्टेशन से फोन आया और सीसीटीवी फुटेज में अपराधी की पहचान करने के लिए एक बार फिर थाने बुलाया गया।महाराष्ट्र के ठाणे में बड़ा हादसा, इमारत का एक हिस्सा गिरने से दो महिला समेत चार लोगों की मौत; रेस्क्यू जारी यह भी पढ़ें यह भी पढ़ें-नवी मुंबई के दीघा इलाके में नग्न चोर की दहशत, CCTV में कैद हुए फुटेज; पुलिस ने एहतियातन शुरू की गश्तरेलवे पुलिस ने घटना पर दी प्रतिक्रियामहिला ने कहा कि जिस तरह से पुलिस इस तरह की संवेदनशील घटनाओं पर रवैया रखती है, वह दिल तोड़ने वाला है। महिला के इन आरोपों को लेकर राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने एक ट्वीट कर घटना को लेकर खेद जताया।रेलवे पुलिस आयुक्त ने कहा कि महिला से पुलिस अधिकारियों के गलत व्यवहार को लेकर जांच के आदेश दिए गए हैं।

Google Follow Image