महाराष्ट्र का सियासी संकटः शिवसैनिकों के हमले के डर से सूरत से गुवाहाटी शिफ्ट किए गए 'बागी' विधायक?

News18 | 2 days ago | 22-06-2022 | 09:05 pm

महाराष्ट्र का सियासी संकटः शिवसैनिकों के हमले के डर से सूरत से गुवाहाटी शिफ्ट किए गए 'बागी' विधायक?

सूरत. महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महाविकास अघाड़ी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले विधायकों को आधी रात के बाद सूरत से गुवाहाटी शिफ्ट कर दिया गया. रात करीब 2 बजे उन्हें बसों में बिठाकर सूरत एयरपोर्ट लाया गया, और विमान के जरिए गुवाहाटी पहुंचा दिया गया. दो दिन से सूरत के फाइव स्टार होटल में ठहरे विधायकों के इस तरह अचानक दूसरे राज्य में शिफ्ट करने पर सवाल उठ रहे हैं. पूछा जा रहा है कि आखिर ऐसा क्या हो गया जो रातोंरात विधायकों को ढाई हजार किलोमीटर दूर ले जाना पड़ा. गुजरात पुलिस के खुफिया सूत्रों से आई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि बागी नेता एकनाथ शिंदे और अन्य विधायकों पर शिवसैनिकों के हमले का खतरा था, जिसे देखते हुए ये फैसला किया गया.शिवसेना के नेता एकनाथ शिंदे और उनके साथी विधायक इस वक्त महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार के लिए खतरा बने हुए हैं. महाराष्ट्र में विधान परिषद चुनावों में पर्याप्त संख्या बल न होने के बावजूद भाजपा की 5 सीटों पर जीत के तुरंत बाद शिंदे और कई विधायक गुजरात में सूरत के एक होटल में आ गए थे. वहां कई और विधायक उनके पास पहुंचे. एएनआई के मंगलवार के वीडियो में शिंदे के साथ 35 विधायक होटल में नजर आए थे. गुवाहाटी पहुंचकर एकनाथ शिंदे ने दावा किया कि उनके साथ शिवसेना के 40 विधायक हैं. उन्होंने ये भी दावा किया कि 10 और विधायक जल्द उनके साथ आ सकते हैं. गुवाहाटी एयरपोर्ट पर इन विधायकों को रिसीव करने के लिए बीजेपी के विधायक सुशांत बोरगोहेन और भाजपा सांसद पल्लव लोचन दास पहुंचे थे.बागी विधायकों को सूरत से गुवाहाटी शिफ्ट करने को लेकर अटकलों का बाजार गर्म है. इस बीच, खबरें हैं कि मुख्य रूप से तीन वजहों के चलते विधायकों को गुवाहाटी ले जाया गया. रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से दावा किया गया है कि गुजरात पुलिस की इंटेलिजेंस को खुफिया जानकारी मिली थी कि कुछ शिवसैनिक एकनाथ शिंदे और अन्य विधायकों को निशाना बनाने की कोशिश कर सकते हैं. इसके लिए लगभग 50 गाड़ियों में भरकर शिवसैनिक मुंबई से सूरत पहुंच गए हैं. हालांकि सूरत के होटल में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई थी, लेकिन फिर भी शिवसैनिकों के हंगामे का खतरा बना हुआ था.विधायकों को गुवाहाटी ले जाने के पीछे एक वजह ये हो सकती है कि ये मुंबई से दूर है. ऐसे में शिवसैनिकों के वहां पहुंचने की संभावना कम है. दूसरी बात ये कि असम में भी गुजरात की तरह बीजेपी की सरकार है. वहां पर महाराष्ट्र के इन बागी विधायकों को खतरे की आशंका नहीं रहेगी. गुवाहाटी आने पर एकनाथ शिंदे सुकून और आत्मविश्वास से भरे नजर आए थे. विधायकों के साथ वह एयरपोर्ट पर खिलखिलाते दिखे. उनकी बॉडी लैंग्वेज देखकर साफ था कि वह किसी हड़बड़ी में नहीं हैं. चेहरे पर सुकून और शांति थी. आत्मविश्वास के साथ वह गुवाहाटी पहुंचे.ये भी मुमकिन है कि बागी विधायकों को एकजुट रखने के मकसद से सूरत से गुवाहाटी ले जाया गया हो. न्यूज18 ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि कुछ विधायक वापस मुंबई लौटना चाहते हैं, लेकिन सुरक्षा कर्मी उन्हें नहीं जाने दे रहे. इसे लेकर सुरक्षाकर्मियों के साथ उनकी कहासुनी भी हुई. सूरत चूंकि मुंबई के नजदीक है, ऐसे में उन्हें दूर गुवाहाटी ले जाने की एक वजह ये भी हो सकती है.बहरहाल, मुंबई में शिवसेना के नेता संजय राउत ने दावा किया है कि उनकी एकनाथ शिंदे से एक घंटे तक फोन पर बातचीत हुई है. उन्होंने कहा कि शिंदे हमारी पार्टी के पुराने सदस्य हैं. हमारे दोस्त हैं. हमने दशकों तक साथ में काम किया है. एक-दूसरे को छोड़ना न तो उनके लिए आसान है और न ही हमारे लिए. संजय राउत ने दावा किया कि जो विधायक एकनाथ शिंदे के साथ हैं, उनसे बातचीत चल रही है, सब शिवसेना में रहेंगे. हालांकि उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी एक जुझारू पार्टी है. हम लगातार संघर्ष करेंगे. ज्यादा से ज्यादा हम सत्ता खो देंगे लेकिन हम लड़ते रहेंगे.ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |Tags: CM Uddhav Thackeray, Guwahati, Maharashtra, Shivsena

Google Follow Image